Home राशिफल इसलिए मंदिर से चोरी होते हैं जूते-चप्पल, शनिदेव से हैं संबंध

इसलिए मंदिर से चोरी होते हैं जूते-चप्पल, शनिदेव से हैं संबंध

98
0


हम सब ईश्वर की पूजा अर्चना करने के लिए मंदिर जाते हैं। मंदिर जाकर भगवान की पूजा करने का अलग ही महत्व है लेकिन मंदिर जाने के साथ ही एक खास घटनाक्रम भी जुड़ा हुआ है। जी हां और यह भी संभव है कि यह घटना हर किसी के साथ कभी न कभी घटित हुई होगी। हम बात कर रहे हैं मंदिर में जूते-चप्पल चोरी होने की। यह एक आम घटना है, मंदिर में जूते-चप्पल चोरी हो जाना कोई नई बात नहीं है। हालांकि न सिर्फ मंदिर, बल्कि कई धार्मिक स्थलों पर दर्शन करने वाले श्रद्धालुओं के साथ ऐसा होता रहता है।

1/6जूते-चप्पल चोरी होने से जुड़ी है मान्यता

श्रद्धालुओं के जूते-चप्पल चोरी होने से बचने के लिए कई धार्मिक स्थलों पर तो जूते-चप्पल रखने की उचित एवं विशेष व्यवस्था होती है लेकिन फिर भी लोगों के जूते-चप्पल चोरी हो ही जाते हैं। आमजन तो इसे एक सामान्य घटना मानते हुए मंदिर प्रशासन की लापरवाही भी कहते हैं, लेकिन ज्योतिषशास्त्र के अनुसार ऐसा होने के पीछे कई तरह की प्राचीन मान्यताएं हैं। इसलिए आज हम आपको इस घटना से जुड़ी प्राचीन धार्मिक मान्यताओं के बारे में बताएंगे।

घर में कछुआ रखने से धन लाभ ही नहीं और भी हैं बहुत फायदे

2/6बढ़ता है पुण्य

ज्योतिष के अनुसार, जूते-चप्पल चोरी होने की घटना शनिवार के दिन होने से शनि द्वारा होने वाले दोषों में कुछ कमी आती है। कुछ लोग तो पुरानी धार्मिक मान्यताओं के चलते स्वयं की इच्छा से ही दान के रूप में मंदिरों के बाहर जूते-चप्पल छोड़ आते हैं। मान्यता है कि ऐसा करने से पुण्य बढ़ता है।

3/6शनि से है संबंध

ज्योतिष शास्त्र में शनि को क्रूर और कठोर ग्रह कहा जाता है। शनि जब किसी व्यक्ति को विपरीत फल देता है तो व्यक्ति से बहुत मेहनत भी करवाता है और इसके प्रतिस्वरूप नाम मात्र का फल प्रदान करता है। जिन लोगों पर शनि की साढ़ेसाती या ढैय्या चली रही होती है और कुंडली में शनि शुभ स्थान पर नहीं होता है तो उन्हें भी कई प्रकार की परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

धन चाहिए तो वास्तु के इन 8 मंत्रों का हर दिन कीजिए ध्यान

MENSXP

5 mistakes people make while ab training

Visit Site

Recommended byColombia

4/6पैरों में शनि का वास

किसी की राशि में शनि की स्थिति नहीं भी खराब हो तो भी ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक हमारे शरीर के सभी अंग विभिन्न ग्रहों से प्रभावित होते हैं। इसी तरह शनिदेव भी किसी ना किसी माध्यम से हमारे ऊपर अपना प्रभाव बनाए रखते हैं। उनका एक माध्यम हमारे पांव ही हैं। मान्यता है कि मनुष्य के पैरों में शनि का वास होता है।

5/6शनिदेव होते हैं प्रसन्न

पैर के साथ त्वचा संबंधित अन्य चीजें भी शनि से प्रभावित होती हैं। इसलिए ऐसा कहा जाता है कि पैर और त्वचा, दोनों से निमित्त दान किया जाए तो शनि देव प्रसन्न होते हैं और शुभ फल प्रदान करते हैं। साथ ही, पैर तथा त्वचा से संबंधित बीमारियों में भी लाभ प्राप्त हो सकता है।

6/6जूते-चप्पल करने चाहिए दान

ज्योतिष धर्म के आधार पर कहा जाता है कि यदि कोई व्यक्ति शनि देव की क्रूर दृष्टि से ग्रस्त है तो उसको खासतौर पर जूते-चप्पल दान करना चाहिए। विशेष रूप से शनिवार को यह दान करना अत्यंत फलदायी माना जाता है।

वास्तु टिप्स: घर में बिखरा सामान पहुंचा सकता है इस तरह नुकसान

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here