Home देश पीएम मोदी का नया मंत्र, ‘जहां बीमार वहां उपचार’

पीएम मोदी का नया मंत्र, ‘जहां बीमार वहां उपचार’

72
0

नईदिल्ली-

कोविड प्रबंधन को लेकर पीएम नरेंद्र मोदी ने नया मंत्र दिया, जहां बीमार वहां उपचार। पीएम ने कहा कि कोविड के इलाज को मरीज के घर तक लाने से स्वास्थ्य व्यवस्था पर बोझ कम होगा।

पीएम नरेंद्र मोदी वाराणसी के डॉक्टरों और अधिकारियों से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बातचीत की। और उन्होंने कोरोना वारियर्स को निरंतर ओर सक्रिय नेतृत्व के लिए उन्हें धन्यवाद दिया, जिससे स्वास्थ्य संरचना बढ़ाने और आवश्यक दवाओं तथा वेंटिलेंटर तथा ऑक्सीजन कंस्ट्रेटर की आपूर्ति सुनिश्चित करने में मदद मिली।

पीएम नरेंद्र मोदी ने एक महीने में किए कए वैक्सीनेसन और आगे के प्लान के बारे में जानकारी ली तथा चुनौतियों की तैयारियों का भी जायजा लिया।

पीएम ने फ्रंटलाइन के कोरोना वारियर्स की कार्यों की प्रशंसा की। उन्होंने अपने प्रियजनों को खोने वाले सभी लोगों को अपनी श्रंद्धाजलि दी।

पीएम ने माइक्रो कंटेनमेंट जोन पहल की तारीफ करते हुए कहा कि इस अभियान को ग्रामीण इलाकों तक पहुंचाया जाए। इसे व्यापक बनाए जाने की जरूरत है। पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि काशी कवच नामक टेली मेडिसिन सुविधा प्रदान करने में डॉक्टरों, लैब तथा ई-मार्केटिंग कंपनियों को एक साथ लाने का काम बहुत ही उत्तम है और इससे काफी लाभ होगा।

पीएम मोदी ने खास तौर पर डॉक्टरों को ब्लैंक फंगस के खतरे के लिए आगाह किया है और उन्होंने कहा कि सरकार अपनी ओर से तैयार है आपको विशेष ध्यान देना होगा। इस मौके पर पीएम मोदी ने ग्रामीण क्षेत्रों में काम कर रहे चिकित्सा सहायकों और डॉक्टरों के लिए अधिकारियों और डॉक्टरों को लगातार वेबिनार आयोजित करने की सलाह दी। उन्होंने जिले में टीके की बर्बादी को कम करने की दिशा में काम करने को कहा है।  पीएम मोदी ने वाराणसी में एकीकृत कोविड कमान प्रणाली ने बहुत अच्छा काम किया और कहा कि वाराणसी का उदाहरण दुनिया को प्रेरित करता है। पीएम ने पंडित राजन मिश्रा कोविड अस्पताल को सक्रिय करने की सराहना की। तथा कम समय में तेजी से आईसीयू बेड की संख्या बढ़ाने का सुझाव दिया। पीएम मोदी ने इस दौरान योगी सरकार की तारीफ करते हुए कहा कि जिस प्रकार से प्रदेश सरकार पूर्वांचल में बच्चों में इनसेफ्लाइटिस पर नियंत्रण किया है यह उदाहरण है।

पीएम मोदी ने जनप्रतिनिधियों से संवेदनशील रहने की सलाह भी दी क्योंकि आलोचना भी होगा लेकिन लोगों से जुड़ कर आपको कार्य करना है।

गौरतलब है कि इस मौके पर पीएम मोदी को एक महीने में किए गए प्रयासों टीकाकरण की स्थिति और चुनौतियों के बारे विस्तृत जानकारी दी गई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here