Home गुजरात दुर्घटना में ब्रेन डेड हुए बचपन के दो दोस्त, 12 लोगों को...

दुर्घटना में ब्रेन डेड हुए बचपन के दो दोस्त, 12 लोगों को दे गए नवजीवन

14
0

सूरत। शहर की जीडी गोएन्का स्कूल के निकट विगत 24 अगस्त को एक्टिवा और कार के बीच हुई दुर्घटना में एक्टिवा सवार दो दोस्त घायल हो गए थे। दुर्घटना के चार दिन बाद 28 अगस्त को अस्पताल के डॉक्टरों ने दोनों को ब्रेन डेड घोषित कर दिया था। ब्रेन डेड हुए दोनों के परिजनों अपने लाड़लो का अंग दान करने का फैसला किया जिससे 12 लोगो को नवजीवन मिल गया।

मीत पंड्या और क्रिश गांधी नामक दो युवक विगत 24 अगस्त को एक्टिवा पर सूरत के जीडी गोएन्का स्कूल के निकट से गुजर रहे तभी एक अज्ञात कार चालक ने एक्टिवा को पीछे से टक्कर मार दी। टक्कर इतनी जबरस्त थी की मीत और क्रिश दोनों उछल कर सड़क पर जा गिरे। इस हादसे में दोनों के सिर में गंभीर चोट लगी थी। राहगीरों ने दोनों को अस्पताल पहुंचाया।

इलाजरत दोनों को डॉक्टर ने विगत 28 अगस्त को ब्रेन डेड घोषित कर दिया। इस खबर ने दोनों के परिजनों को झकझोर कर रख दिया। मीत और क्रिश के परिवार ने अपने लाडलों के अंगदान करने का फैसला किया।

अस्पताल से प्राप्त ख़बरों के अनुसार क्रीश के फेफडे हैदराबाद में पूना निवासी और सीआरपीएफ में सेवारत 54 वर्षीय जवान में ट्रांसप्लांट किया गया, जो की पिछले डेढ़ साल से ऑक्सीजन सपोर्ट पर जिन्दा थे। मीत का हृदय अहमदाबाद के सिम्स अस्पताल में वडोदरा की एक युवती में ट्रांसप्लांट किया गया, वहीं क्रिश का लीवर अहमदाबाद के शेल्बी अस्पताल में राजकोट के 55 वर्षीय व्यक्ति में, मीत का लीवर अहमदाबाद के स्टर्लिंग अस्पताल में बायड के रहनेवाले 47 वर्षीय शिक्षक में ट्रांसप्लांट किया गया। इस तरह दोनों दोस्तों ने जाते जाते भी 12 लोगो को नई जिंदगी दे गए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here