Home गुजरात एक बार मुझे भी हॉस्पिटल के गार्ड ने डांटा और डंडे से...

एक बार मुझे भी हॉस्पिटल के गार्ड ने डांटा और डंडे से मारा था : मनसुख मांडविया

5
0

नई दिल्ली। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने आज एक हैरान करने वाला खुलासा किया। उन्होंने बताया कि कुछ दिन पहले वह एक आम नागरिक बनकर सफदरजंग अस्पताल में औचक निरीक्षण करने पहुंचे थे। वहां तैनात एक गार्ड ने उन्हें डंडा मार दिया था। केंद्रीय मंत्री ने इस बात खुलासा उसी सफदरगंज अस्पताल में चार स्वास्थ्य संबंधी सुविधाओं के उद्घाटन समारोह में डॉक्टरों से किये।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने डॉक्टरों से कहा कि निरीक्षण के दौरान अस्पताल में बहुत ही ज्यादा असुविधाएं देखने को मिली। उन्होंने अस्पताल प्रशासन से मरीजों को दी जाने वाली सुविधाओं में सुधार कर और अस्पताल की व्यवस्थाओं को दूर करके इसे देश का मॉडल अस्पताल बनाने के निर्देश दिए।

उद्घाटन समारोह में डॉक्टर मांडविया ने कहा कि वह एक रोगी के रूप में अस्पताल में निरीक्षण करने पहुंचे थे और इस दौरान जब वह एक बेंच पर बैठने लगे तो वहां पर मौजूद एक सुरक्षा गार्ड ने उन्हें पहले डांट दिया और उन्हें डंडा से भी मारा।

उन्होंने कहा कि वहां कई रोगियों को अस्पताल में स्ट्रेचर और दूसरी अन्य चिकित्सा सहायता के लिए भटकना पड़ रहा था।  केंद्रीय मंत्री ने एक 75 वर्षीय महिला का उदाहरण देते हुए कहा कि वह अपने बेटे के लिए एक स्ट्रेचर लाने के लिए एक गार्ड से गुहार लगा रही थी, लेकिन उस महिला को स्ट्रेचर नहीं मिला। उन्होंने कहा कि गार्ड के व्यवहार से नाखुश होने के बाद उन्होंने उससे पूछा कि अस्पताल में 1500 से ज्यादा गार्ड तैनात होने के बाद भी गार्ड ने बुजुर्ग महिला की मदद क्यों नहीं की।

मांडविया ने पैरामेडिकल और अन्य स्टाफ को उनकी भूमिका की याद दिलाते हुए कहा कि अस्पताल और मेडिकल स्टाफ एक ही सिक्के के दो पहलू हैं और उन्हें एक टीम के रूप में काम करना चाहिए। इस दौरान उन्होंने डॉक्टरों द्वारा कोरोना काल में कोविड से संक्रमित मरीजों के इलाज में किए जा रहे काम की प्रशंसा भी की। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here