Home राजनीति सिद्धू के खिलाफ पूर्व मुख्यमंत्री का फूटा गुस्सा

सिद्धू के खिलाफ पूर्व मुख्यमंत्री का फूटा गुस्सा

2
0

देश को सिद्धू जैसे खतरनाक आदमी से बचाने के लिए कोई भी बलिदान देने के लिए तैयार हूँ : अमरिंदर सिंह

नई दिल्ली। पंजाब के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने को विवश किये गए अमरिंदर सिंह ने पंजाब चुनाव में नवजोत सिद्धू के खिलाफ उम्मीदवार खड़ा करने और उन्हें मुख्यमंत्री बनने से रोकने के लिए किसी भी प्रकार का बलिदान देने के लिए तैयार हैँ।

अमरिंदर ने यह भी कहा कि जब उन्होंने तीन सप्ताह पहले पद छोड़ने की पेशकश की थी पर सोनिया गांधी ने उन्हे जारी रखने के लिए कहा गया था। उन्होंने राहुल गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा को “अनुभवहीन और गुमराह” करार दिया।
अमरिंदर सिंह ने कहा कि वह नवजोत सिद्धू को मुख्यमंत्री पद पर रोकने के लिए अंतिम लड़ेंगे और देश को “ऐसे खतरनाक आदमी” से बचाने के लिए कोई भी बलिदान देने के लिए तैयार रहेंगे।

उन्होंने कहा कि वह सिद्धू की हार सुनिश्चित करने के लिए 2022 के विधानसभा चुनावों में सिद्धू के खिलाफ एक मजबूत उम्मीदवार खड़ा करेंगे क्योंकि सिद्धू राज्य के लिए खतरनाक हैं। 79 वर्षीय कांग्रेस नेता अमरिंदर सिंह ने इस बात पर जोर दिया कि उनके राजनीतिक विकल्प खुले हैं और वह अपने भविष्य के कदम पर निर्णय लेने से पहले “दोस्तों” से बात कर रहे हैं। यह स्पष्ट करते हुए कि वे अपनी उम्र को बाधा के रूप में नहीं देखते, उन्होंने टिप्पणी की, “आप 40 साल की उम्र में बूढ़े हो सकते हैं और 80 में युवा हो सकते हैं।”

पूर्व मुख्यमंत्री ने गांधी परिवार पर निशाना साधते हुए कहा “मैं (2022 के विधानसभा चुनाव में) जीत के बाद जाने के लिए तैयार था लेकिन हार के बाद कभी नहीं। सिंह ने कहा कि उन्होंने सोनिया गांधी से कहा था कि वह पंजाब चुनाव में कांग्रेस का नेतृत्व करने के बाद पद छोड़ने और किसी और को सत्ता सौंपने के लिए तैयार हैं लेकिन ऐसा नहीं हुआ, इसलिए मैं लड़ूंगा।”

उन्होंने कहा “मैं विधायकों को गोवा या किसी जगह की फ्लाइट में नहीं ले गया। मैं इस तरह से काम नहीं करता। मैं नौटंकी नहीं करता, गांधी भाई-बहन जानते हैं कि यह मेरा तरीका नहीं है। प्रियंका और राहुल मेरे बच्चों की तरह हैं।

अमरिंदर सिंह ने नए मुख्यमंत्री के कार्यक्षेत्र में सिद्धू के स्पष्ट “हस्तक्षेप” पर कटाक्ष किया और कहा कि यह “दुखद” है कि जो अपना मंत्रालय नहीं संभाल सका वह कैबिनेट का प्रबंधन करना चाहता है। उन्होंने कहा, “यदि सिद्धू सुपर सीएम के रूप में व्यवहार करते हैं, तो पार्टी काम नहीं करेगी। इस ड्रामा मास्टर के नेतृत्व में, कांग्रेस पंजाब चुनावों में दहाई अंक को छूने में कामयाब होती है तो यह बड़ी बात होगी ।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here