Home गुजरात बजरंग दल की मुहिम, छतों पर लाउडस्पीकर लगा सुबह-शाम बाजवा रहे...

बजरंग दल की मुहिम, छतों पर लाउडस्पीकर लगा सुबह-शाम बाजवा रहे हैं “हनुमान चालीसा”

9
0

धूमिल होती हिंदू संस्कृति को बचाने का मूल मंत्र है हनुमान चालीसा का रोजाना पाठ : राहुल शर्मा

सूरत। शहर के सैकड़ों घरों की छतों पर लाउडस्पीकर लगाकर सुबह-शाम 7 बजे के आस पास हनुमान चालीसा का पाठ सुनाया जा रहा है। दरअसल यह सब गुजरात के सूरत स्थित बजरंग दल के एक मुहिम के तहत रहा है। इस मुहीम की सबसे खास बात यह है कि जिसको भी अपने घर या अपार्टमेंट में लाउडस्पीकर के जरिए हनुमान चालीसा सुनानी हो, बजरंग दल उनको पूरा सामान अपनी तरफ से फ्री में मुहैया करा रहा है। छतों पर लाउडस्पीकर लगाने एवं अन्य साजो-सामान की व्यवस्था करने में लगभग 16 हजार रुपये का खर्च आता है।

इस बाबत जानकारी देते हुए सूरत बजरंग दल के संयोजक राहुल शर्मा ने कहा कि हिंदू संस्कृति धीरे-धीरे ख़त्म होती जा रही है, इसे बचाने के लिए हमने धर्म का मूल मंत्र पकड़ा है। लाउडस्पीकर से हमने सुबह-शाम, दोनों टाइम हनुमान चालीसा का पाठ करना शुरू किया है।

शर्मा ने यह भी कहा की जब अजान बजाने की परमिशन है तो हनुमान चालीसा क्यूं नही? अब हिंदू भी कट्टर बनेगा। उन्होंने कहा कि सूरत में लोगों का उत्साह देखकर लगता है कि आने वाले कुछ सालों मे देश के हर घर और मंदिर में हनुमान चालीसा का पाठ सुनाई देगा।

शर्मा ने कहा, ‘लाउडस्पीकर लगाने में गलत क्या है? हर धर्म के लोग अपने धर्म के प्रचार के लिए क्या कुछ नहीं करते हैं? कट्टरता की सारी हदें पार कर देते हैं, किसी की हत्या करने से भी नहीं डरते हैं। हमने तो सिर्फ लाउडस्पीकर लगाया है जिससे धर्म का प्रचार हो रहा है। इससे किसी का नुकसान तो नहीं हो रहा।’ उन्होंने कहा कि हिंदुओ के घरों में माता-पिता अपने बच्चों को कहते है कि आप हनुमान चालीसा का पाठ करो। आज की युवा पीढ़ी में जागरूकता लाने के लिए भी हनुमान चालीसा बजाना जरूरी है।

शर्मा ने कहा कि इसका असर भी हुआ क्योंकि पहले लोग कहते थे कि इससे कुछ नहीं होगा, आज लोग अपनी बिल्डिंग में लाउडस्पीकर लगवाने के लिए आ रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘जो लोग सुबह 10 बजे भी नहीं उठते थे वे जल्दी उठने लगे, टीका लगाना भी शुरू कर दिया। जब सरकार ने सुबह अजान बजाने की परमिशन दे रखी है तो हम हनुमान चालीसा क्यूं न बजाएं। अगर हमें अजान से कुछ दिक्कत हो तो क्या हम शिकायत कर सकते हैं? क्या हम इसे बंद करा सकते हैं?’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here