Home मनोरंजन ‘14 फेरे’ के ज़ी सिनेमा प्रीमियर के साथ हंसी और मस्ती की...

‘14 फेरे’ के ज़ी सिनेमा प्रीमियर के साथ हंसी और मस्ती की है गारंटी

12
0

ज़ी सिनेमा दिखाएगा विक्रांत मेस्सी और कृति खरबंदा स्टारर 14 फेरे,

20 नवंबर को दोपहर 3 बजे

कहते हैं शादियों का मौका ऐसा होता है, जहां हर कहानी जिंदगी भर की एक याद बन जाती है। शादियों से जुड़ी कहानियां अक्सर मस्ती, हंसी-मजाक, नोकझोंक और परिवार के साथ बिताए अनमोल पलों से सराबोर होती हैं। कुछ ऐसी ही है संजू और अदिति की शादी, जिसमें बेहिसाब हंसी, मस्ती और मनोरंजन की गारंटी है। क्या आपको यकीन नहीं होता? जानने के लिए आप भी इस शादी में शामिल होने के लिए तैयार हो जाइए, क्योंकि ज़ी सिनेमा 20 नवंबर को दोपहर 3 बजे फिल्म ‘14 फेरे’ में संजू और अदिति की कहानी दिखाने जा रहा है। शादी की अफरा-तफरी और कॉमेडी से सराबोर, विक्रांत मेस्सी और कृति खरबंदा स्टारर यह फिल्म एक परफेक्ट फैमिली एंटरटेनर है। अपनी एक खुशहाल शादी को तरस रहे संजू और अदिति एक ऐसा वेडिंग प्लान बनाते हैं, जिसमें फैमिली ड्रामा है, जो अमूमन हर शादी का हिस्सा होता है। हम तो ये कहेंगे कि जब दो समान रूप से संस्कृति-प्रेमी परिवार एक दूसरे के आमने-सामने होंगे, तो फिर पागलपन और धमाल तो होगा ही!

इस फिल्म के बारे में बात करते हुए विक्रांत मेस्सी ने कहा, “आपको ऐसी फिल्म बहुत कम ही देखने को मिलती है, जिसमें सारे मसाले मौजूद हों। यह एक संपूर्ण फैमिली एंटरटेनर है, जो सदियों से चली आ रही एक सामाजिक समस्या को एक आधुनिक ट्विस्ट देती है। मैं बीच का रास्ता अपनाने में यकीन रखता हूं, लेकिन यदि मैं अपने पार्टनर से इतना प्यार करता हूं, जितना कि मेरा किरदार संजय, अदिति को चाहता है, तो मैं रियल लाइफ में भी बिल्कुल वैसा ही करूंगा, जैसा कि संजय ने किया। मैं जो ऑफ-स्क्रीन नहीं कर सकता या जो ऑफ-स्क्रीन नहीं हो सकता, उसे मैं कैमरे के सामने करने की कोशिश करता हूं। मुझे उम्मीद है कि मुझे इस तरह की और चीजें करने के अवसर मिलते रहेंगे।”

अपने किरदार के बारे में बताते हुए कृति खरबंदा ने कहा, “14 फेरे ने मुझे अदिति जैसा एक दमदार किरदार निभाने का मौका दिया, जो एक आत्मनिर्भर, प्रैक्टिकल, यंग लड़की है, जो हर ढर्रे को तोड़ती है। उसके लिए दिमाग भी उतना ही जरूरी है, जितना कि दिल, और मुझे इस किरदार की यही बात रोमांचित करती है। शादियां हमेशा मस्ती का मौका होती हैं, लेकिन अदिति और संजू के 14 फेरे किसी भी असली शादी में होने वाले मस्ती और पागलपन से दोगुने हैं। इस फिल्म में ऐसी स्थितियां हैं, जो अपनी-सी लगती हैं, लेकिन इनके साथ एक ट्विस्ट भी है। यह हमेशा से मेरा सपना रहा है कि मैं किसी के साथ भाग जाऊं या कम से कम मुझे ऐसा करने का मौका मिले, और कहीं ना कहीं मैंने पर्दे पर अपने सपने को जी लिया है।”

अपने रोल को लेकर गौहर खान कहती हैं, “मुझे लगता है कि यह किसी भी एक्टर के लिए एक चैलेंज होगा जब उसे एक ऐसे इंसान का रोल निभाना पड़े, जो वो असल जिंदगी में नहीं है। 14 फेरे कॉमेडी में मेरा पहला प्रयास है और उसमें भी मुझे दिल्ली की मैरिल स्ट्रीप का रोल निभाने का मौका मिला, जो कि अपने आप में एक सपना है! मैं यकीन से कह सकती हूं कि मैं इस जॉनर में और भी चीजें करना चाहूंगी। मैं तीन अलग-अलग किरदार निभा रही थी, और इसमें प्रोस्थेटिक्स, एक किरदार से दूसरे किरदार में आने की जद्दोजहद और अपनी खुद की शादी के बाद तुरंत शूटिंग शुरू करने के चलते यह बड़ा संघर्ष भरा रहा। यह फिल्म बहुत अच्छा संदेश देती है और मुझे लगता है कि यही खूबी इसे आज के दौर की सबसे प्रासंगिक फिल्मों में से एक बनाती है।”

देवांशु सिंह ने कहा, “हम लोग एक हैप्पी फैमिली की तरह गा रहे थे, खेल रहे थे और सेट पर बढ़िया वक्त गुजार रहे थे। इस फिल्म के लिए मैं सिर्फ प्रमुख कलाकारों को ही नहीं, बल्कि फिल्म के हर एक किरदार को बखूबी दर्शाना चाहता था। इसीलिए, मैंने इस फिल्म की स्क्रिप्ट पर बहुत ध्यान दिया, ताकि हर रोल निखरकर सामने आए। हमारा विचार था कि हम एक ट्विस्ट के साथ कुछ अनोखा पेश करें। दो शादियों की बात तो जाने दीजिए, आप एक ही शादी की प्लानिंग में होने वाली मस्ती और पागलपन के बारे में सोचकर देखिए! इतने बेहतरीन कलाकारों के साथ काम करना बहुत बढ़िया अनुभव रहा, जैसा कि मैंने कहा, मुझे यह एक परिवार की तरह महसूस हुआ।”

देवांशु सिंह के निर्देशन में बनी 14 फेरे में विक्रांत मेस्सी और कृति खरबंदा के साथ गौहर खान और जमील खान ने प्रमुख भूमिकाएं निभाई हैं। ये फिल्म संजू और अदिति की सपनों भरी प्रेम कहानी है, जो दोनों के पारंपरिक परिवारों से दूर परवान चढ़ रही है। उनकी जिंदगी में सबकुछ परफेक्ट तरीके से चल रहा होता है, लेकिन मुश्किलें तो तब आती हैं, जब दोनों शादी करने का फैसला करते हैं। चूंकि दोनों एक दूसरे से बेइंतेहां प्यार करते हैं, तो वो एक दूसरे के परिवारों को रिझाने के लिए अपनी-अपनी नई पारिवारिक पृष्ठभूमियां तैयार करते हैं और फिर शादी की ये हेरा-फेरी ट्रक भरकर हंसी, इमोशंस और ड्रामा पैदा करती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here