Home देश हेलिकॉप्टर क्रैश के गम में नीलगिरि में पसरा सन्नाटा

हेलिकॉप्टर क्रैश के गम में नीलगिरि में पसरा सन्नाटा

37
0

लोगों ने खुद को घरों में किया कैद


नीलगिरि। तमिलनाडु के नीलगिरि जिले में बुधवार को हुए हेलिकॉप्टर हादसे के बाद से यह जिला सदमे में हैं। चौपर दुर्घटना में सीडीएस बिपिन रावत, उनकी पत्नी मधुलिका रावत और 11 अन्य सैन्यकर्मियों को मौत से लोग इस कदर दुखी हैं कि उन्होंने खुद को घरों में कैद कर लिया है।

तमिलनाडु का यह सबसे पुराना, लोकप्रिय और भीड़भाड़ वाले हिल स्टेशन में शुक्रवार को सन्नाटा पसरा रहा। दुकानें बंद हैं, सड़कों पर गाड़ियां नहीं दौड़ रही हैं। ना तो पर्यटक होटलों से बाहर निकले हैं और ना ही शहर में कोई रौनक दिख रही है। दुकान, होटल, व्यावसायिक प्रतिष्ठान सहित सभी गैर जरूरी सेवाएं बंद हैं। नागरिकों को खुद ही पहल करते हुए इस तरह शोक जाहिर करने का फैसला किया है।

10 लाख से अधिक की आबादी वाला तमिलनाडु का नीलगिरि जिला हमेशा पर्यटकों से गुलजार रहता है। इसकी इकॉनमी पर्यटन पर ही आधारित है। यहीं बुधवार को चाय बागान के बीच जंगल वाले इलाके में वायुसेना का एमआई-17 हेलिकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त हुआ जिसमें सीडीएस रावत, उनकी पत्नी, ब्रिगेडियर एलएस लिड्डर सहित 13 लोगों की मौत हो गई। आज दिल्ली में रावत, उनकी पत्नी और लिड्डर को अंतिम विदाई दी गई। अन्य सैन्यकर्मियों के शव भी दिल्ली पहुंच गए हैं, जहां डीएनए जांच के बाद परिवारों को सौंपा जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here