Home देश कलकत्ता हाईकोर्ट की अनुमति के बाद गंगासागर मेला शुरु

कलकत्ता हाईकोर्ट की अनुमति के बाद गंगासागर मेला शुरु

4
0

नई दिल्ली। शर्तों के साथ कलकत्ता हाई कोर्ट की इजाजत के बाद आज से पश्चिम बंगाल में मशहूर गंगासागर मेला शुरू हो गया है। इस बार गंगासागर मेला 16 जनवरी तक लगेगा। हर साल मकर संक्रांति के अवसर पर बंगाल में गंगासागर मेला लगता है। देश में कोरोना विस्फोट के मद्देनजर इस बार गंगासागर मेला रद्द होने की आशंका थी।

इस संबंध में कलकत्ता हाईकोर्ट में एक याचिका भी दायर की गई थी, लेकिन हाईकोर्ट ने कुछ शर्तों के साथ इस मेले के आयोजन की अनुमति दे दी है। कोर्ट में पश्चिम बंगाल की सरकार के आश्वासन के बाद यह अनुमित दी है। इसके बाद शनिवार से गंगासागर मेले का विधिवत आयोजन हो गया। गंगासागर में मकर संक्रांति के दिन गंगासागर में डुबकी लगाने का विधान है। इस बार 15 जनवरी को मकर संक्रांति मनाया जा रहा है।

दरअसल, कोरोना और ओमिक्रॉन के बढ़ते मामले को देखते हुए कलकत्ता हाईकोर्ट में गंगासागर मेले पर रोक लगाने के लिए याचिका दी गई थी, लेकिन राज्य की ममता सरकार ने अदालत में हलफनामा देकर कोर्ट से अनुरोध किया कि राज्य सरकार मेले में कोरोना के सभी प्रोटोकॉल का पालन कर रही है, इसलिए मेले की अनुमति दी जाए। सरकार ने कहा, टेस्टिंग से लेकर वैक्सीनेशन तक मेले में सारे इंतजाम हो गए हैं। सरकार कोरोना नहीं फैलने देने के लिए प्रतिबद्ध है। राज्य सरकार से आश्वासन मिलने के बाद हाईकोर्ट ने शर्तों के साथ इस मेले की इजाजत दे दी। कोर्ट ने कहा कि पश्चिम बंगाल के गृह सचिव सुनिश्चित करेंगे की मेले के दौरान कोरोना मानकों का पूरी तरह पालन हो।

कोर्ट ने तीन सदस्यों की कमेटी बनाई है, जो इस बात पर नजर रखेगी कि नियमों का पालन हो भी रहा है या नहीं। कलकत्ता हाईकोर्ट ने सरकार को निर्देश दिया है कि वह मेला स्थल सागर द्वीप को 24 घंटों के भीतर ‘नोटिफाइड एरिया’ घोषित करे। सागर द्वीप को नोटिफाइड एरिया घोषित करने पर राज्य को जरुरत के अनुरुप तीर्थयात्रियों के स्वास्थ्य, सुरक्षा और कल्याण के संबंध में कदम उठाने का अधिकार प्राप्त हो जाएगा।

मकर संक्रांति के मौके पर गंगा और बंगाल की खाड़ी के संगम स्थल गंगासागर में हजारों श्रद्धालु, साधु और पर्यटकों के डुबकी लगाने की संभावना है। कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए इस बात की चिंता है कि कहीं मेले में कोरोना विस्फोट नहीं हो जाए। कोर्ट ने इस बात पर चिंता जताई है कि इतने सारे श्रद्धालु जब गंगा में डुबकी लगाएंगे तो नदी के पानी के माध्यम से कहीं कोरोना का संक्रमण वहां रह रहे रिहाइशी लोगों को संक्रमित न कर दे। इस पर राज्य के महाधिवक्ता एस एन मुखर्जी ने कहा सागर द्वीप पर रह रहे लोगों को वैक्सीन की दोनों खुराक दी जा चुकी है और डायमंड हार्बर पर पॉजिटिविटी रेट अंडर कंट्रोल है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here